लेह-लद्दाख में लहराया अबूझमाड़ का झण्डा

नारायणपुर । नक्सल प्रभावित नारायणपुर जिले में भी अब बाइक राइडिंग का जुनून देखने को मिल रहा है ,नारायणपुर निवासी युवा व्यापारी राकेश जैन ने 4000 किलोमीटर का सफर एवेंजर बाइक राइड कर नारायणपुर जिले से 9 राज्यों को पार कर लेह लद्दाख तक का सफर पूरा किया । राकेश जैन जो पेशे से एक व्यापारी है लेकिन व्यापार के साथ साथ बाइक राइडिंग का शौख उन्हें लेह लद्दाख तक पहुचा जाएगा उन्होंने सोचा ही नही था । दरअसल कुछ दिनों पहले की बात है जब रायपुर से छत्तीसगढ़ इनफिनिटी बाइक राइडरों का दल राइडिंग करते हुए नारायणपुर पहुचा था उस दल के कैप्टन सुनील शर्मा थे जो भिलाई के रहने वाले है 50 वर्ष से अधिक उम्र होने के बाउजूद वे हजारो किलोमिटर का सफर आसानी से कर लेते है राइडरों का दल जब नारायणपुर पहुचा तब उन से मिलकर राकेश जैन की मंशा लम्बी राइडिंग को लेकर बनी फिर क्या था उन्होंने भी ठान लिया एक लंबी राइडिंग का और निकल चले लम्बी यात्रा के लिए वो भी अपने एवेंजर बाइक से और साथी बने सुनील शर्मा जिन्हें बाइक राइडिंग का लंबा अनुभव प्राप्त है । सुनील शर्मा शर्मा हर साल हजारों किलोमीटर की राइडिंग देश कर अलग अलग हिस्सों में करते है लेकिन राकेश जैन के लिए ये अनुभव तो नया था लेह लद्दाख के कठिनाई भरे रास्तो में चलना आसान बिल्कुल नही है फिर भी पहुच गए लेह लद्दाख और अबूझमाड़ का झंडा फैरा कर राकेश जैन और सुनील शर्मा ने देश की आजादी का अमृत महोत्सव मनाया ।
7 दिनों में 4 हजार किलोमीटर का सफर तय -जुलाई महीने के 24 तारीख को राकेश जैन और राइडर सुनील शर्मा ने भिलाई से सफर की शुरुवात की 12 दिनों छत्तीसगढ़ के ये दोनों राइडरों ने 4000 किलोमीटर का सफर 7 दिनों में तय किया इस पूरे सफर में सुनील शर्मा पाइलेट रायडर थे ,राकेश ने इससे पहले सिक्किम की यात्रा बाइक से की है ,लम्बी दूरी तय करने का यह उनका पहला सफर है ,राकेश जैन और सुनील शर्मा से फोन पर बात चीत बताया कि रायपुर के कुछ राइडरों ने राकेश जैन को लेह लदाख बाइक पहुचने का चेलेंज दिया था ,उन्होंने चेलेंज स्वीकार कर अपना टारगेट पुरा किया । छत्तीसगढ़ से लेह लद्दाख छत्तीसगढ़ से महाराष्ट्र से , एमपी से दिल्ली से , यूपी से पंजाब से हरियाणा से जम्मू और कश्मीर से लेह लद्दाख से 3000 किमी लेह में 700 किमी अलग से घूमे लुब्रा वैली और पैंगोंग झील, खारदुंग भारत का आखरी गांव तुर्तुक पाकिस्तान सीमा के पास, भारतीय सेना को पास से देखने का सौभाग्य मिला बार्डर पर भारतीय सेना से मिलकर बस्तर के राकेश जैन भावुक हो गए हमारे जवान विषम परिस्थितियों के बावजूद देश की रक्षा के लिए बार्डर पर तैनात रहते है । उनसे मिलकर एक अलग ही अनुभव मिला जिसे बया नही किया जा सकता ।अब है वापसी की तैयारी बस्तर के रायडर राकेश जैन और भिलाई के रायडर सुनील शर्मा 9 राज्यो को पार कर वापस लौटेंगे ,एक दिन में ये दोनों राइडर 800 किलोमीटर की दूरी तय करेंगे ,और 11 फरवरी तक ये दोनों रायडर नारायणपुर पहुँचें ,राकेश बताते है कि जब लेह लद्दाख पहुच कर अबूझमाड़ का झंडा फैराया तो लोग पूछने लगे और कुछ लोगो ने तो अबूझमाड़ पीस मैराथन की बात कही ,तो राकेश और सुनील शर्मा भौचक्के रह गए ,की नारायणपुर अबूझमाड़ पीस मैराथन की लहर देश भर में है ,निश्चित ही अबूझमाड़ मैराथन के चर्चे देश भर में है ,और इस मैराथन ने नारायणपुर जिले की पहचान पूरे देश मे स्थापित की है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *